Arenacakes

Blog

Uncategorized

मुंबई में रिश्तों पर कालिख लगाने वाली घटनाएं; एक में पिता तो दूसरे मामले में मौसेरे भाई ने नाबालिग को बनाया हवस का शिकार

<p style="text-align: justify;"><strong>मुंबई:</strong> मुंबई में एक ही दिन में दो ऐसे घटनाएं सामने आई जिनसे रिश्तों की मर्यादा तार तार हो गई. एक घटना में जहां पिता ने अपनी बेटी के साथ तो वहीं दूसरी घटना में मौसेरे भाई ने बहन के साथ दुष्कर्म किया. दोनों ही मामलों में लड़की नाबालिग बताई जा रही है. मुंबई पुलिस सूत्रों ने बताया कि पहला मामले मुंबई के अंधेरी इलाके का है तो दूसरा मामला चारकोप इलाके में घटी है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>पहला मामला</strong><br />अंधेरी पुलिस स्टेशन के सूत्रों ने बताया कि 23 मई को उन्हें एक शिकायत मिली कि 11 साल की लड़की के साथ उसके पिता ही दुष्कर्म कर रहे हैं. इसके बाद पुलिस ने तुरंत ही मामला दर्ज कर दुष्कर्म करने वाले पिता को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने बताया कि लड़की के पिता जनवरी महीने से ही उसके साथ दुष्कर्म करता आ रहा है. लड़की अपनी 9 साल की बहन के साथ अपने पिता के पास रहती थी.</p>
<p style="text-align: justify;">पिता के इस कुकर्मों से घबराकर उसने इस बात की जानकारी अपने पड़ोसी को बताई जिसके बाद पड़ोसी की मदद से लड़की ने सारी बात पुलिस तक पहुचाई. इस मामले में पुलिस ने पापी पिता के खिलाफ संबंधित आईपीसी और पोक्सो की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>दूसरी घटना</strong><br />चारकोप पुलिस ने एक 20 साल के लड़के को 12 साल की लड़की के साथ बलात्कार करने के आरोप में गिरफ्तार किया है. पीड़िता ने पुलिस को बताया कि आरोपी उसकी मौसी का लड़का है और यह पिछले कई दिनों से अपनी नानी के यहां रहने गयी थी, तबसे ही वो लड़की के साथ दुष्कर्म कर रहा था.</p>
<p style="text-align: justify;">आरोपी ने तो पीड़िता को धमकी भी दी थी कि अगर वो इस बारे में किसी से भी चर्चा करेगी तो वो उसको बदनाम करेगा और साथ ही जान से मारने की धमकी भी दी . पुलिस ने लड़के के खिलाफ आईपीसी और पोक्सो की धारा के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर किया है यह मामला पहले कांदिवली पुलिस स्टेशन में दर्ज हुआ था पर बाद में इसे चारकोप पुलिस को आगे की जांच के लिए ट्रांसफर कर दिया गया.</p>
AuthenticCapitalstore

Leave a Reply